प्रचार संगठन

गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग विभाग

हमारे बारे में

  महत्वपूर्ण व्यक्ति
श्री संजय भूसरेड्डी

प्रमुख सचिव, गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग, उ0 प्र0 एवं गन्ना एवं चीनी आयुक्त, उ० प्र०

डॉ० भूपेन्द्र सिंह बिष्ट

मुख्य विख्यापन अधिकारी

प्रचार संगठन द्वारा गन्ना विकास हेतु प्रचार -प्रसार कार्यो के अन्तर्गत गन्ना शोध संस्थानों से विकसित नवीनतम तथा अभिप्रमाणित तकनीकी को गन्ना किसानों तक पहुँचाने का कार्य किया जाता है। किसानों को अधुनातन संसाधनों के माध्यम से बताने का यह प्रयास किया जाता है कि वे गन्ना उत्पादन के परम्परागत तरीकों के स्थान पर नयी विज्ञान आधारित उत्पादन पद्धतियों का प्रयोग करें। नये तकनीकी घटक, यथा-अधिक पैदावार तथा चीनी परता देने वाली किस्में, गन्ना बुवाई की नई पद्धतियों, उवर्रकों एवं कीटनाशकों का सुरक्षित एवं समुचित प्रयोग, भूमि सुधार,जल प्रबन्धक,कीट का जैविक नियंत्रण-जैव उर्वरकों की प्रासंगिकता से किसानों को अवगत कराया जाता है।

इस कार्य के लिये गन्ना आयुक्त संगठन में प्रचार संगठन स्थापित है। यह संगठन व्यवसायिक तौर पर शैक्षिक एवं संचारगत संसाधनों के उपयोग से गन्ना उत्पादन एवं गन्ना उत्पादकता बढ़ाने की दोहरी चुनौती का समाना करने के लिये अनौपचारिक शिक्षा पद्धति का प्रयोग करता है जिससे किसान कम से कम जमीन में अधिक से अधिक से उत्पादन लेने हेतु प्रेरित होते हैं। इससे आर्थिक स्थिति तो सुदृढ़ होती ही है, दूसरे किसानों के लिये उनकी फसल प्रेरक भी बनती है।

संगठन का उद्देश्य एवं कार्य

किसानों की मदद करना तथा उन्हें जागरूक बनाना, किसानों को तकनीकी के स्थानान्तरण में सहायता पहुँचाना, उत्पादन एवं उत्पादकता मेें बढ़ोत्तरी के माध्यम से किसानों के आय की वृद्धि करना, परस्पर संचार माध्यमों से किसानों की कार्य पद्धति में अनुकूल परिवर्तन लाना, विज्ञान सम्मत नये अनुसंधान को सम्बद्ध पक्षों तक पहुँचाना एवं प्रौढ़ शिक्षा के अनौपचारिक तरीकों से किसानों का मार्ग निर्देशन करना तथा प्रबन्ध के सुदृढ़ सिद्धान्त के अनुसार कार्य करना।

माध्यम

कृषकों को गन्ने की खेती की आधुनिक वैज्ञानिक विधियों व स्वीकृत गन्ना प्रजातियों आदि की जानकारी देने हुतु ग्राम स्तर पर सामुहिक सभाओं का आयोजन कर गन्ना खेती विषयक जानकारी दी जाती है तथा प्रचार साहित्य का कृषकों के मध्य निःशुल्क वितरण कराया जाता है। प्रदेश में आयोजित होने वाले विभिन्न मेलों में गन्ना प्रदर्शनियों के आयोजन आदि के माध्यम से भी कृषकों के मध्य विभागीय नीतियों व संस्तुतियों का विख्यापर भी किया जाता है।

कृषकों को गन्ने की अधिकाधिक उपज प्राप्त करने के लिये प्रोत्साहित करने हेतु विभिन्न स्तर की गन्ना प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है तथा राष्ट्रीय कृषि विकास योजनान्तर्गत, गन्ना उत्पादकता पुरस्कार योजनान्तर्गत सर्वाधिक उपज प्राप्त करने वाले कृषकों को पुरस्कृत भी किया जाता है।

दृश्य-श्रव्य माध्यम व प्रिन्ट मीडिया के जरिये विभाग की कृषकोपयोगी योजनाओं व विभागीय उपलब्धियों को आवर्ती तौर पर जनसामान्य हेतु प्रसारित कराया जाता है।